CBSE Class 9 Hindi A Syllabus 2019-20, Chapter, Topics – Download PDF

CBSE Class 9 Hindi A Syllabus: Check out the Information about CBSE Class 9 Hindi A Syllabus 201920, Chapter, Topics – Download PDF in this article. Students who are searching for the Central Board of Secondary Education (CBSE) Hindi A Syllabus for Class 9, 2019 are on the right track. Class IX Students may not have to worry about their Exam Syllabus. As we have provided the Details about Class 9 CBSE Hindi A Syllabus 2019-20 (सीबीएसई कक्षा 9 हिंदी एक पाठ्यक्रम) in this article.

Students should check out this article to get complete details about CBSE 9th Class Hindi A Syllabus for 2019-20. Download the pdf file for CBSE Class 9 Hindi A Syllabus 2019 from the given link provided in this article.

Download CBSE Class 9 Hindi A Syllabus PDF

Also Read :

Download PDF Link for CBSE Class 9 Hindi A Syllabus 2019  Click Here

CBSE Class 9 Hindi A Syllabus 2019 Question Paper

CBSE Class 9 Hindi A Syllabus: हिन्दी पाठ्यक्रम (कोड सं. – 002)
कक्षा 9वीं हिन्दी संकलित परीक्षाओं हेतु पाठ्यक्रम विनिर्देशन 2018-19

परीक्षा भार विभाजन
विषयवस्तुउप भारकुल भार
1पठन कौशल गद्यांश व काव्यांश पर शीर्षक का चुनाव, विषय-वस्तु का बोध, भाषिक बिंदु/संरचना आदि पर अति लघुत्तरात्मक एवं लघुत्तरात्मक प्रश्न15 Marks
(अ)एक अपठित गद्यांश (100 से 150 शब्दों के) (1×2=2) (2×3=6)08
(ब)दो अपठित काव्यांश (100 से 150 शब्दों के) (1×3=3) (2×2=4)07
2व्याकरण के लिए निर्धारित विषयों पर विषय-वस्तु का बोध, भाषिक बिंदु/संरचना आदि पर प्रश्न (1×15)15 Marks
व्याकरण
1शब्द निर्माण
उपसर्ग – 2 अंक, प्रत्यय – 2 अंक, समास – 3 अंक
07
2अर्थ की दृष्टि से वाक्य भेद – 4 अंक04
3अलंकार – 4 अंक
(शब्दालंकार अनुप्रास, यमक, श्लेष) (अर्थालंकार उपमा,रूपक, उत्प्रेक्षा, अतिशयोक्ति, मानवीकरण)
04
3पाठ्यपुस्तक क्षितिज भाग-1 व पूरकपाठ्यपुस्तक कृतिका भाग-1
(अ)गद्य खण्ड1330 Marks
1क्षितिज से निर्धारित पाठों में से गद्यांश के आधार पर विषय-वस्तु का बोध, भाषिक बिंदु/संरचना आदि पर प्रश्न। (2+2+1)05
2क्षितिज से निर्धारित गद्य पाठों के आधार पर विद्यार्थियों की उच्च चिंतन व मनन क्षमताओं का आंकलन करने हेतु प्रश्न। (2×4)08
(ब)गद्य खण्ड13
1काव्यबोध व काव्य पर स्वयं की सोच की परख करने हेतु क्षितिज से निर्धारित कविताओं में से काव्यांश के आधार पर प्रश्न। (2+2+1)05
2क्षितिज से निर्धारित कविताओं के आधार पर विद्यार्थियों का काव्यबोध परखने हेतु प्रश्न। (2×4)8
(स)पूरक पाठ्यपुस्तक कृतिका भाग-104
पूरक पुस्तिका ‘कृतिका’ के निर्धारित पाठों पर आधारित एक मूल्य परक प्रश्न पूछा जाएगा। इस प्रश्न का कुल भार पाँच अंक होगा। ये प्रश्न विद्यार्थियों के पाठ पर आधारित मूल्यों के प्रति उनकी संवेदनशीलता को परखने के लिए होगा। (4×1)04
4लेखन
(अ)विभिन्न विषयों और संदर्भों पर विद्यार्थियों के तर्कसंगत विचार प्रकट करने की क्षमता को परखने के लिए संकेत बिन्दुओं पर आधारित समसामयिक एवं व्यावहारिक जीवन से जुड़े हुए विषयों पर 200 से 250 शब्दों में किसी एक विषय पर निबंध। (10×1)1020 Marks
(ब)अभिव्यक्ति की क्षमता पर केन्द्रित औपचारिक अथवा अनौपचारिक विषयों में से किसी एक विषय पर पत्र। (5×1)05
(स)किसी एक विषय पर ‘संवाद लेखन’। (5×1)05
कुल80 Marks

नोट: निम्नलिखित पाठों से प्रश्न नहीं पूछे जाएंगे।

क्षितिज (भाग – 1)·         उपभोक्तावाद की संस्कृति

·         एक कुत्ता और एक मैना

·         साखियाँ व सबद पाठ से सबद – 2 संतो भाई आई..

·         ग्राम श्री

कृतिका (भाग – 1)·         इस जल प्रलय में

·         किस तरह आखिरकार में हिंदी में आया

प्रश्नपत्र का प्रश्नानुसार विश्लेषण एवं प्रारूप
हिंदी पाठ्यक्रम
कक्षा-9वीं
[
निर्धारित समयावधि : 3 घंटे] [अधिकतम अंक :80]

  • प्रश्नो का प्रारुप :अपठित बोध
    दक्षता परीक्षण/अधिगम परिणाम : अवधारणात्मक बोध, अर्थग्रहण, अनुमान लगाना, विश्लेषण करना, शब्दज्ञान व भाषिक कौशल
    अति लघूत्तरात्मक 1 अंक : 05
    लघूत्तरात्मक 2 अंक : 05
    निबंधात्मक I 4 अंक : 0
    निबंधात्मक II 5 अंक : 0
    निबंधात्मक III : 10 अंक : 0
    कुल योग : 15
  • प्रश्नो का प्रारुप :व्यावहारिक व्याकरण
    दक्षता परीक्षण/अधिगम परिणाम : व्याकरणिक सरंचनाओं का बोध और प्रयोग, विश्लेषण एवं भाषिक कौशल
    अति लघूत्तरात्मक 1 अंक : 15
    लघूत्तरात्मक 2 अंक : 0
    निबंधात्मक I 4 अंक : 0
    निबंधात्मक II 5 अंक : 0
    निबंधात्मक III : 10 अंक : 0
    कुल योग : 15
  • प्रश्नो का प्रारुप :पाठ्यपुस्तक
    दक्षता परीक्षण/अधिगम परिणाम : प्रत्यास्मरण, अर्थग्रहण(भावग्रहण), लेखक के मनोभावो को समझना शब्दों का प्रसंगानुकूल अर्थ समझना, आलोचनात्मक चिंतन, तार्किकता, सराहना, साहित्यिक परंपराओं के परिप्रेक्ष में मूल्यांकन, विश्लेषण, सृजनात्मकता, कल्पनाशीलता, कार्य-कारण संबंध स्थापित करना, साम्यता एवं अंतरों की पहचान, अभिव्यक्ति में मौलिकता एवं जीवन मूल्यों की पहचान।
    अति लघूत्तरात्मक 1 अंक : 02
    लघूत्तरात्मक 2 अंक : 12
    निबंधात्मक I 4 अंक : 01
    निबंधात्मक II 5 अंक : 0
    निबंधात्मक III : 10 अंक : 0
    कुल योग : 30
  • प्रश्नो का प्रारुप :रचनात्मक लेखक (लेखन कौशल)
    दक्षता परीक्षण/अधिगम परिणाम : संकेत बिंदुओं का विस्तार, अपने मत की अभिव्यक्ति, सांदाहरण समझाना, औचित्य निर्धारण, भाषा में प्रवाहमयता, सटीक शैली,उचित प्रारूप का प्रयोग,अभिव्यक्ति की मौलिकता, सृजनात्मकता एवं तार्किकता
    अति लघूत्तरात्मक 1 अंक : 0
    लघूत्तरात्मक 2 अंक : 0
    निबंधात्मक I 4 अंक : 0
    निबंधात्मक II 5 अंक : 02
    निबंधात्मक III : 10 अंक : 01
    कुल योग : 20
  • कुल अंक :
    अति लघूत्तरात्मक 1 अंक :22 = 22
    लघूत्तरात्मक 2 अंक : 17 = 34
    निबंधात्मक I 4 अंक : 1 = 4
    निबंधात्मक II 5 अंक : 2 = 10
    निबंधात्मक III : 10 अंक : 1 = 10
    कुल योग : 80

Also Visit :

CBSE Class 9 Hindi A Syllabus 2019

व्याकरण बिंदु

  • उपसर्ग, प्रत्यय
  • समास
  • अर्थ की दृष्टि से वाक्य भेद
  • अलंकार : शब्दालंकार – अनुप्रास, यमक एवं श्लेष; अर्थालंकार – उपमा, रूपक, उत्प्रेक्षा, अतिशयोक्ति एवं मानवीकरण।

श्रवण वाचन (मौखिक बोलना) संबंधी योग्यताएँ

  • श्रवण (सुनना) कौशल
    • वर्णित या पठित सामग्री, वार्ता, भाषण, परिचर्चा, वार्तालाप, वाद-विवाद, कविता-पाठ आदि का सुनकर अर्थ ग्रहण करना, मूल्यांकन करना और अभिव्यक्ति के ढंग को जानना।
    • वक्तव्य के भाव, विनोद व उसमें निहित संदेश, व्यंग्य आदि को समझना।
    • वैचारिक मतभेद होने पर भी वक्ता की बात को ध्यानपूर्वक, धैर्यपूर्वक व शिष्टाचारानुकूल प्रकार से सुनना व वक्ता के दृष्टिकोण को समझना।
    • ज्ञानार्जन मनोरंजन व प्रेरणा ग्रहण करने हेतु सुनना।
    • वक्तव्य का आलोचनात्मक विश्लेषण करना एवं सुनकर उसका सार ग्रहण करना।
  • श्रवण (सुनना) का परीक्षण : कुल5 अंक (ढाई अंक)
    • परीक्षक किसी प्रासंगिक विषय पर एक अनुच्छेद का स्पष्ट वाचन करेगा। अनुच्छेद तथ्यात्मक या सुझावात्मक हो सकता है। अनुच्छेद लगभग 150 शब्दों का होना चाहिए।
      या
      परीक्षक 2-3 मिनट का श्रव्य अंश (ऑडियो क्लिप) सुनवाएगा। अंश रोचक होना चाहिए। कथ्य ||घटना पूर्ण एवं स्पष्ट होनी चाहिए। वाचक का उच्चारण शुद्ध, स्पष्ट एवं विराम चिह्नों के उचित प्रयोग सहित होना चाहिए।
    • परीक्षक को सुनते-सुनते परीक्षार्थी अलग कागज पर दिए हुए श्रवण बोधन के अभ्यासों को हल कर सकेंगे।
    • अभ्यास रिक्त स्थान पूर्ति, बहुविकल्पी अथवा सत्य/असत्य का चुनाव आदि विधाओं में हो सकते हैं।
    • अति लघूत्तरात्मक 5 प्रश्न पूछे जाएँगे।

वाचन (बोलना) कौशल

  • बोलते समय भली प्रकार उच्चारण करना, गति, लय, आरोह-अवरोह उचित बलाघात व अनुतान सहित बोलना, सस्वर कविता-वाचन, कथा-कहानी अथवा घटना सुनाना।
  • आत्मविश्वास, सहजता व धाराप्रवाह बोलना, कार्यक्रम-प्रस्तुति।
  • भावों का सम्मिश्रण जैसे – हर्ष, विषाद, विस्मय, आदर आदि को प्रभावशाली रूप से व्यक्त करना, भावानुकूल संवाद-वाचन।
  • औपचारिक व अनौपचारिक भाषा में भेद कर सकने में कुशल होना व प्रतिक्रियाओं को नियंत्रित व शिष्ट भाषा में प्रकट करना।
  • मौखिक अभिव्यक्ति को क्रमबद्ध, प्रकरण की एकता सहित व यथासंभव संक्षिप्त रखना।
  • स्वागत करना, परिचय देना, धन्यवाद देना, भाषण, वाद-विवाद, कृतज्ञता ज्ञापन, संवेदना व बधाई इत्यादि मौखिक कौशलों का उपयोग।
  • मंच भय से मुक्त होकर प्रभावशाली ढंग से 5-10 मिनट तक भाषण देना।

वाचन (बोलना) का परीक्षण : कुल 2.5 अंक (ढाई अंक)

  • चित्रों के क्रम पर आधारित वर्णनः इस भाग में अपेक्षा की जाएगी कि परीक्षार्थी विवरणात्मक भाषा का प्रयोग करें।
  • किसी चित्र का वर्णन (चित्र व्यक्ति या स्थान के हो सकते हैं)।
  • किसी निर्धारित विषय पर बोलना जिससे वह अपने व्यक्तिगत अनुभव का प्रत्यास्मरण कर सके।
  • परिचय देना। (1 अंक)
    (स्व/ परिवार/ वातावरण/ वस्तु/ व्यक्ति/ पर्यावरण/ कवि /लेखक आदि)
  • आधे-आधे अंक के कुल तीन प्रश्न पूछे जा सकते हैं।5 (डेढ़ अंक)

कौशलों के अंतरण का मूल्यांकन

श्रवण (सुनना)वाचन (बोलना)
1विद्यार्थी में परिचित सन्दर्भों में प्रयुक्त शब्दों और पदों को समझने की सामान्य योग्यता है, किंतु सुसंबद्ध आशय को नहीं समझ पाता।1विद्यार्थी केवल अलग-अलग शब्दों और पदों के प्रयोग की योग्यता प्रदर्शित करता है किंतु एक सुसंबद्ध स्तर पर नहीं बोल सकता।
2छोटे सुसंबद्ध कथनों को परिचित संदर्भो में समझने की योग्यता है।2परिचित संदर्भो में केवल छोटे सुसंबदध कथनों का सीमित शुद्धता से प्रयोग करता है।
3परिचित या अपरिचित दोनों संदर्भो में कथित सूचना को स्पष्ट समझने की योग्यता है अशुधियाँ करता है जिससे प्रेषण में रूकावट आती है।3अपेक्षित दीर्घ भाषण में अधिक जटिल कथनों के प्रयोग की योग्यता प्रदर्शित करता है अभी भी कुछ अशुधियाँ करता है। जिससे प्रेषण में रूकावट आती है।
4दीर्घ कथनों की श्रृंखला को पर्याप्त शुद्धता से समझता है और निष्कर्ष निकाल सकता है।4अपरिचित स्थितियों में विचारों को तार्किक ढंग से संगठित कर धारा प्रवाह रूप में प्रस्तुत कर सकता है। ऐसी गलतियाँ करता है जिनसे प्रेषण में रूकावट नहीं आती।
5जटिल कथनों के विचार-बिंदुओं को समझने की योग्यता प्रदर्शित करता है, उद्देश्य के अनुकूल सुनने की कुशलता प्रदर्शित करता है।5उद्देश्य और श्रोता के लिए उपयुक्त शैली को अपना सकता है केवल मामूली गलतियाँ करता है।

टिप्पणी

  • परीक्षण से पूर्व परीक्षार्थी को तैयारी के लिए कुछ समय दिया जाए।
  • विवरणात्मक भाषा में वर्तमान काल का प्रयोग अपेक्षित है।
  • निर्धारित विषय परीक्षार्थी के अनुभव संसार के हों, जैसे – कोई चुटकुला या हास्य-प्रसंग सुनाना, हाल में पढ़ी पुस्तक या देखे गए सिनेमा की कहानी सुनाना।
  • जब परीक्षार्थी बोलना प्रारंभ करें तो परीक्षक कम से कम हस्तक्षेप करें।

पठन कौशल
CBSE Class 9 Hindi A Syllabus: पठन क्षमता का मुख्य उद्देश्य ऐसे व्यक्तियों का निर्माण करने में निहित है जो स्वतंत्र रूप से चिंतन कर सकें तथा जिनमें न केवल अपने स्वयं के ज्ञान का निर्माण करने की क्षमता हो अपितु वे इसका आत्मावलोकन भी कर सकें।

  • सरसरी दृष्टि से पढ़कर पाठ का केंद्रीय विचार ग्रहण करना।
  • एकाग्रचित हो एक अभीष्ट गति के साथ मौन पठन करना।
  • पठित सामग्री पर अपनी प्रतिक्रिया प्रकट करना।
  • भाषा, विचार एवं शैली की सराहना करना।
  • साहित्य के प्रति अभिरूचि का विकास करना।
  • संदर्भ के अनुसार शब्दों के अर्थ-भेदों की पहचान करना।
  • किसी विशिष्ट उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए तत्संबंधी विशेष स्थल की पहचान करना।
  • पठित सामग्री के विभिन्न अंशों का परस्पर संबंध समझना।
  • पठित अनुच्छेदों के शीर्षक एवं उपशीर्षक देना।
  • कविता के प्रमुख उपादान – तुक, लय, यति आदि से परिचित कराना।

टिप्पणी: पठन के लिए सामाजिक, सांस्कृतिक , प्राकृतिक, कलात्मक, मनोवैज्ञानिक, वैज्ञानिक तथा खेल-कूद और मनोरंजन संबंधी साहित्य के सरल अंश चुने जाएँ।

लिखने की योग्यताएँ

  • लिपिकेमान्यरूपकाहीव्यवहारकरना।
  • विराम-चिह्नोंकासहीप्रयोगकरना।
  • लेखनकेलिएसक्रिय (व्यवहारोपयोगी) शब्दभंडारकीवृद्धिकरना।
  • प्रभावपूर्णभाषातथालेखन-शैलीकास्वाभाविकरूपसेप्रयोगकरना।
  • उपयुक्तअनुच्छेदोंमेंबाँटकरलिखना।
  • प्रार्थनापत्र, निमंत्रणपत्र, बधाईपत्र, संवेदनापत्र, आदेशपत्र, एस.एम.एसआदिलिखनाऔरविविधप्रपत्रोंकोभरना।
  • विविधस्रोतोंसेआवश्यकसामग्रीएकत्रकरअभीष्टविषयपरनिबंधलिखना।
  • देखीहुईघटनाओंकावर्णनकरनाऔरउनपरअपनीप्रतिक्रियाप्रकटकरना।
  • पढ़ीहुईकहानीकोसंवादमेंतथासंवादकोकहानीमेंपरिवर्तितकरना।
  • समारोहऔरगोष्ठियोंकीसूचनाऔरप्रतिवेदनतैयारकरना।
  • सार, संक्षेपीकरणएवंभावार्थलिखना।।
  • गद्यएवंपद्यअवतरणोंकीव्याख्यालिखना।
  • स्वानुभूतविचारोंऔरभावनाओंकोस्पष्टसहजऔरप्रभावशालीढंगसेअभिव्यक्तकरना।
  • क्रमबद्धताऔरप्रकरणकीएकताबनाएरखना।
  • लिखनेमेंमौलिकताऔरसर्जनात्मकतालाना।

रचनात्मक अभिव्यक्ति

  • वाद-विवाद
    विषय का चुनाव विषय-शिक्षक स्वयं करें।
    आधार बिंदु – तार्किकता, भाषण कला, अपनी बात अधिकारपूर्वक कहना।
  • कविसम्मेलन।
    पाठ्यपुस्तक में संकलित कविताओं के आधार पर कविता पाठ
    या
    मौलिक कविताओं की रचना कर कवि सम्मेलन या अंत्याक्षरी

आधार बिंदु

  • अभिव्यक्ति
  • गति, लय, आरोह-अवरोहसहितकवितावाचन।
  • मंचपरबोलनेकाअभ्यास/यामंचभयसेमुक्ति

कहानी सुनाना/कहानी लिखना या घटना का वर्णन/लेखन
आधार बिंदु

  • संवाद–भावानुकूलएवंपात्रानुकूल
  • घटनाओंकाक्रमिकविवरण
  • प्रस्तुतीकरण
  • उच्चारण
  • परिचयदेनाऔरपरिचयलेना–पाठ्यपुस्तककेपाठोंसेप्रेरणालेतेहुएआधुनिकतरीकेसेकिसीनएमित्रसेसंवादस्थापितकरतेहुएअपनापरिचयसरलशब्दोंमेंदेनातथाउसकेविषयमेंजानकारीप्राप्तकरना।
  • अभिनयकला-पाठोंकेआधारपरविद्यार्थीअपनीअभिनयप्रतिभाकाप्रदर्शनकरभाषामेंसंवादोंकीअदायगीकाप्रभावशालीप्रयोगकरसकतेहैं।नाटकएकसामूहिकक्रियाहै, अतःनाटककेलेखन, निर्देशनसंवाद, अभिनय, भाषावउद्देश्यइत्यादिकोदेखतेहुएशिक्षकस्वयंअंकोंकानिर्धारणकरसकताहै।
  • आशुभाषण–विद्यार्थियोंकीअनुभवपरिधिसेसंबंधितविषय।
  • सामूहिकचर्चा–विद्यार्थियोंकीअनुभवपरिधिसेसंबंधितविषय।

मूल्यांकन के संकेत बिंदुओं का विवरण

प्रस्तुतीकरण

  • आत्मविश्वास
  • हाव-भाव
  • प्रभावशीलता
  • तार्किकता
  • स्पष्टता

विषय वस्तु

  • विषयकीसहीअवधारणा
  • तर्कसम्मत

भाषा

  • शब्दचयनवस्पष्टतास्तरऔरअवसरके

उच्चारण

  • स्पष्टउच्चारण, सहीअनुतान, आरोह-अवरोहपरअधिकबल।

Similar Articles :

We have provided the CBSE Class 9 Hindi A Syllabus Students in this article. Students who are going to write exams may not worry about anything as we have provided everything Related to the subject in this article. So, after reading this article students must be started preparing for the Exams. Also, keep following us for such Updates and Don’t forget to share about this article with your friends. So that, they may also know about CBSE Class 9 Hindi A Syllabus 2019 and they may also start preparing for the Exams.

📢 Get Latest Exam Updates via E-mail ✉

Note : Submit your name, email, state and updates category below.
  • This field is for validation purposes and should be left unchanged.

Leave A Reply

Your email address will not be published.